इश्क तुमपे ऐसे | Ishq Tumpe Aise Lyrics – यश ईश्वारी 2021

0
369
Ishq Tumpe Aise Lyrics
गाण्याचे शीर्षक:यश ईश्वारी
गायक:भवेन धनक और समीरा कोप्पिकार
संगीत: समीरा कोप्पिकर
गीत:यश ईश्वारी
संगीत लेबल:ज़ी संगीत कंपनी

Ishq Tumpe Aise Lyrics in Hindi

जैसे चांद को तरसे दिन का कोई तारा
किसी नूर को धुंद रहा हो अंधियारा
चाहे नजर को जैसे इक नजरा
साहिल का लेहेर बिना हो ना गुजारा

तुम हि कहो कहु मे कैसे
आने लगा है इश्क तुमपे ऐसे
आने लगा है इश्क तुमपे ऐसे

आने लगा है इश्क तुमपे ऐसे
आने लगा है इश्क तुमपे ऐसे

पैरो के निशान अब तेरे
रास्ते बन रहे है है मेरे
बाहो के फेरे ये घेरे
जैसे प्यार के हो लेहरे

रेत ये मांगे बहारा
नजर जो चाहे नजारा
जैसे बे जुबान को लफ्ज मिल गये

मांगे वफा को जैसे आवारा
किसी साथ को धुंढ रहा हो बेसहारा
जैसे जिना चाहे मर के कोई दोबारा
दिल जीत के जैसे खुद को हि कोई हारा

तुम हि कहो कहुमे कैसे
आने लगा है इश्क तुमपे ऐसे
आने लगा है इश्क तुमपे ऐसे
आने लगा है इश्क तुमपे ऐसे
आने लगा है इश्क तुमपे ऐसे

Ishq Tumpe Aise Lyrics in English

More Song:

Ishq Tumpe Aise Lyrics

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here