फ़ितरत | Fitrat Lyrics – सुयश राय 2020

0
247
Fitrat
गाण्याचे शीर्षक:फ़ितरत
गायक:सुयश राय

Fitrat Lyrics in Hindi

क्या कहूँ तुम्हें तुम मेरी हो
तुम मेरी हो तुम मेरी हो
इक पल भी तुम डोर जाते हो
दर लगने लगता है हुमको

कभी कभी सोचता हूँ
के मैं तुमको
मेरी बाहों में भर लूँ
हुमेशा के लिए

मेरी फ़ितरत बदल रही है
मेरी हसरत बदल रही है
मेरी रूह में है तू क्या करूँ
मेरी फ़ितरत बदल रही है
मेरी हसरत बदल रही है

मेरी रूह में है तू क्या करूँ
क्या करूँ..
खोया रहता हूँ मैं
खोया रहता हूँ मैं
तुझमे ही हर दफ़ा

खोया रहता हूँ मैं
खोया रहता हूँ मैं
तुझमे ही हर दफ़ा
तेरी ही बातों में ख़यालों में

मैं उलझा रहता हूँ
करता रहता हूँ मैं
खुद से ही सवाल
के लौट आओगे घर पे फिर से
आओगे सीने से लगाओगे हुमको दिल से

हन अपना बनाओगे
हुंसे कभी ना जाओगे डोर
के लौट आओगे घर पे फिर से
के लौट आओगे घर पे फिर से
के अपना बनाओगे फिर से

के अपना बनाओगे
मेरी फ़ितरत बदल रही है
मेरी हसरत बदल रही है
मेरी रूह में है तू क्या करूँ

मेरी फ़ितरत बदल रही है
मेरी हसरत बदल रही है
मेरी रूह में है तू क्या करूँ
क्या करूँ..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here