बंबीहा बोले BAMBIHA BOLE Lyrics – सिद्धू मूस वाला 2020

0
804

बंबीहा बोले या गीत चे गायक अमृत मान / सिद्धू मूस वाला हे आहेत. ह्या गीत ला संगीत अमृत मान यांनी दिली आहे. आणि सिद्धू मूस वाला यांनी हे गीत सादर केले आहे.

गाण्याचे शीर्षक:बंबीहा बोले
गायक:अमृत मान / सिद्धू मूस वाला
संगीत:अमृत मान
संगीत लेबल:सिद्धू मूस वाला

BAMBIHA BOLE Lyrics in Hindi

हो जद्द वि बोले जनता मुँह नु
ला लैंदी आ ताले नी
चाल तेन्दुए वरगी कुड़ते
ग़िज़ा कॉटन वाले नी

किते हड वैरी दे पोले
आधी रात पुलिस जेहि टोले
हो गया मर्डर तूंत दे ओले नी

नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले

दुनिया वेख वेख के डरदी
जट्ट दी मुछ W वरगी
चाहे गर्मी चाहे सर्दी
तड़के उठ के चबदा छोले
नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले

हो नूर चेहरे ते मिले मडंगा
बॉम्बे आले एक्टर नाल
अज वी गबबरु पेलि पौंदा
हिंदुस्तान ट्रैक्टर नाल

जट्ट ते चढ़’गई अड़ब जवानी
सुनदा मेजर राजस्थानी
अज्ज वी पहला धरम किसानी
तां ही रब्ब नी रख्दा ओले

नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले

सरकारी नोटिस वरगा रुतबा
बल्लिये जट्ट दे Sign’aa दा
लण्डीयां पुछा वाला रखेया
जोड़ा डाबर Man’aa दा

नाम तारे वांगु चमके
जिथे खड़ जांदा ऐ जम के
वैरी दी लात डिग्गी चों लमके

नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले

हो अज्ज वी अपने नां तो मुहरे
रखेया पिंड दा नाम कूड़े
किसे किसे नाल साँझा करदा
एठने आला जाम कूड़े

लौंदा नित निशाने टीसी
ना फिम चिट्टा ना शीशी
तिन्ने यार बनाई फिरदा
SHO, SSP, DC

नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले

सिद्धू मस्से वाला!

हो मुस्से पिंड चों रेंज ते कुड़ियां
दूर दूर तक तारां नी
जिहनु पटदा जड़ां चों पट दा
ताइयों कहन्दे नोड 11 नी

चोबर जफी वज्जदा गुट्ट दा
पीबी 31 विचों उठ दा
ते कोइ तोड़ नी जट्ट दे पुत्त दा

नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले

जदों दी कलम चोबर ने चक्की
रगड़े अख जिन्ना ते रखी
कल्ला ही फिरदा सब नू धक्की

नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले

हो डब्ब 45 गल तक भरेया
हिक्कां देंदा पाड़ कूड़े
Woofraan उत्ते मिरज़ा गौंदी
सुन्न जसविंदर बरार कूड़े

हो जट्ट दे टिब्बेयां दे विच डेरे
लयी फिरदा मौत नाल फेरे
हो थापी मार बेगाने घेरे

नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले
हाय हाय

हो दुनिया लौंदी फिरदी शिफां
जट्ट दा कद ज्यों बुर्ज खलीफा
नी ओह किथे गौल्दा बीफ़ां

नी बंबीहा बोले
बोले नी बंबीहा बोले हाय हाय

सद्दाम हुसैन दे बयाना वरगे
गबबरु लिखदा गाने नी
हो मुस्सेयों लैके गोंने आले ताई
जाणदे ने सब थाने नी

नेचर मुद्द तों रेहा कलेसि
रुस्सियन वेपन गबरू देशी
कल नू शहर बठिंडे पेशी

नी बंबीहा बोले
बोले बंबीहा बोले

सी जांदा बड़े चिरां तों टाली
पुरे शहर हो गया खाली
एतकी बोलुगी 20 साली

नी बंबीहा बोले
नी बंबीहा बोले

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here