सुलतान – Sultan Lyrics in Hindi – सुलतान 2016

0
1069
Sultan
गाण्याचे शीर्षक:सुलतान
फिल्म:सुलतान (2016)
गायक:राहत फतेह अली खान
संगीत:विशाल-शेखर
गीत:इरशाद कामिल
संगीत लेबल:YRF संगीत

सुलतान फिल्म सुलतान का गीत है। इस गाने की गायिका राहत फतेह अली खान ये हैं। साथ ही इस गीत के शब्द इरशाद कामिल ने लिखे हैं। और यह गीत YRF संगीत द्वारा किया गया है।

Hindi Lyrics

किस्मत जो आवे सामने
तू मोड़ दे उसका पंजा रे
किस्मत जो आवे सामने
तू मोड़ दे उसका पंजा रे

चल मोड दे उसका पंजा रे
सात आसमान चीरे
अब सात समंदर पीरे
चल सात सुरों में करदे ये ऐलान

हिम्मत है तो रोको
और जुर्रत है तो बातों
रे आज हथेली पे रखदी है जान
खून में तेरे मिट्टी, मिट्टी में तेरा खून
खून में तेरे मिट्टी, मिट्टी में तेरा खून

ऊपर अल्लाह निचे धरती
बीच में तेरा जूनून
ऐ सुल्तान..
सीने में तेरे आग, पानी, आंधी है
मेहनत की डोरी होंसलों से बाँधी है
ओ सीने में तेरे आग, पानी, आंधी है
मेहनत की डोरी होंसलों से बाँधी है

है पर्वत भी तू ही
और तू ही पत्थर है
जो चाहे तू वो ही बन जाये
तेरी मर्ज़ी है

आंसू और पसीना
अरे है तो दोनों पानी
पर मोड़ के रख दे दोनों ही तूफ़ान
चोट हो जितनी गहरी
या ठेस जिगर में ठहरी

तो जज्बा उतना ज़हरी है ये मान
नूर-इ-सुकून नियत से जूनून
ये तुझको पता है
तुझमें छुपा है

तू उसको ले, उसको ले पहचान
तेरे इरादे तुझसे भी ज्यादा
उसको पता है जो लापता है
तू इतना ले, इतना ले अब मान

वो दिल में है तेरे
तू उसकी नज़रों में
चल हद से आगे रे
चाह जो तूने वो पाने

चल बनजा रे सुल्तान
सात आसमान चीरे अब सात समंदर पीरे
चल सात सुरों में करदे ये ऐलान
खून में तेरे मिट्टी, मिट्टी में तेरा खून
खून में तेरे मिट्टी, मिट्टी में तेरा खून

ऊपर अल्लाह निचे धरती
बीच में तेरा जूनून सुल्तान..
सात आसमान चीरे अब सात समंदर पीरे
चल सात सुरों में करदे ये ऐलान

और जुर्रत है तो बातों
रे आज हथेली पे रखदी है जान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here