सरसरिया – Sarsariya Lyrics in Hindi – मोहनजो दारो 2016

0
781
sarsariya
गाण्याचे शीर्षक:सरसरिया
चित्रपट:मोहनजो दारो
गायक:शाश्वत सिंह, शाशा तिरुपती
संगीत:ए. आर. रहमान
गीत:जावेद अख्तर
संगीत लेबल:टी-मालिका

सरसरिया फिल्म मोहनजो दारो का गीत है। इस गाने की गायिका शाश्वत सिंह, शाशा तिरुपती ये हैं। साथ ही इस गीत के शब्द जावेद अख्तर ने लिखे हैं। और यह गीत टी-मालिका द्वारा किया गया है।

Hindi Lyrics

ये सरसराती हवा
जाए चारों दिशा
ऐसे ही मुक्त मन मेरा भी हो गया
ये हवा.. सरसरिया.. सरसरिया..

क्यूँ ना लहरा के मैं भी
दिशा दिशा नगर नगर जाऊं
खिला खिला सा जो
मेरा ये मन है

खिला खिला सा जो
मेरा ये तन है
जो रंग रंग है.. मेरे सपने
तो सब रंग ही.. लागे अपने

जो रुत कोई छायी तो छा जाने दे
जो आई अंगड़ाई तो आ जाने दे
हवाएं जो बताएं वोही मान ले
तू मन की सतरंगी है ये जान ले

ये सरसराती हवा
जाए चारों दिशा
ऐसे ही मुक्त मन मेरा भी हो गया
ये हवा.. सरसरिया.. सरसरिया..

क्यूँ ना लहरा के मैं भी
दिशा दिशा नगर नगर जाऊं
लगे के अभी तू है अनजानी
जगत में जितना भी है पानी

है प्रेम उतना मेरे मन में
तू ही तो बसी है मेरे जीवन में
तेरी वाणी मेरे मन में समाती तो है
तेरी बात मुझे सपने दिखाती तो है

तुझे जो देखूं बढती ये धड़कन तो है
हुई मीठी मीठी सी मन में
उलझन तो है
ये सरसराती हवा

जाए चारों दिशा
ऐसे ही मुक्त मन मेरा भी हो गया
ये हवा.. सरसरिया.. सरसरिया..
क्यूँ ना लहरा के मैं भी
दिशा दिशा नगर नगर जाऊं, सरसरिया..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here