बावली बूच – Bawli Booch Lyrics in Hindi – लाल रंग 2016

0
927
bawli-booch
गाण्याचे शीर्षक:बावली बूच
फिल्म:लाल रंग
गायक:विकास कुमार
संगीत:मॅथियस ड्युप्लेसी
गीत:दुष्यंत कुमार

बावली बूच फिल्म लाल रंग का गीत है। इस गाने की गायिका विकास कुमार ये हैं। साथ ही इस गीत के शब्द दुष्यंत कुमार ने लिखे हैं।

Hindi Lyrics

बावली बूच कह दिल की दिल की, हाथ थाम के सिल्की सिल्की
बावली बूच कह दिल की दिल की, हाथ थाम के सिल्की सिल्की
कह गए शाने सोच साच के, सेहेज पके तो आवे स्वाद
इश्क पकाया मंदे आँच पे, बहुत पके तो हो बरबाद

खोल खोल गाँठ इब मन की, बोल बोल बात इब मन की
दो मन एक हो जायो रे, दिल नयी सैन ये गवन के
धरले कदम तू पछड के, रस्ते एक हो जाओ रे
बावली बूच कह दिल की दिल की, हाथ थाम के सिल्की सिल्की
बावली बूच कह दिल की दिल की, हाथ थाम के सिल्की सिल्की

खांड ते मिश्री मीठी, इश्क उसते भी मीठा
खांड ते मिश्री मीठी, इश्क उसते भी मीठा
आँख ते चखले तू प्यारे, यार का दर्शन मीठा रे
बाँध के रखले तू प्यारे
बावली बूच कह दिल की दिल की, हाथ थाम के सिल्की सिल्की
बावली बूच कह दिल की दिल की, हाथ थाम के सिल्की सिल्की

मुंह से कही नहीं मानी, दिल से कही नहीं जानी
इब तो संग हो जाओ रे
जिसने सुनी बात मन की, पार लगा नदी मन की
मन का गीत ही गाओ रे

बावली बूच कह दिल की दिल की, हाथ थाम के सिल्की सिल्की
बावली बूच कह दिल की दिल की, हाथ थाम के सिल्की सिल्की
दिल की दिल की, सिल्की सिल्की, बावली बूच कही की

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here