दर्द-ए-दिल – Dard-E-Dil lyrics – कर्ज 1980

0
910
Dard-E-Dil
गाने के शीर्षक:दर्द-ए-दिल
फिल्म: कर्ज
गायक:मोहम्मद रफ़ी
गीतकार :लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल
गीत काव्य:आनंद बख्शी

Hindi Lyrics

https://www.youtube.com/watch?v=uMWRl5c1brI

दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर
दिल में जगाया आपने
दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर
दिल में जगाया आपने
पहले तो मैं शायर था


पहले तो मैं शायर था
आशिक बनाया आपने
दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर
दिल में जगाया आपने
दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर

दिल में जगाया आपने
आपकी मदहोश नज़रें
कर रही हैं शायरी
आपकी मदहोश नज़रें
कर रही हैं शायरी


ये ग़ज़ल मेरी नहीं
ये ग़ज़ल है आपकी
मैंने तो बस वो लिखा
जो कुछ लिखाया आपने

दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर
दिल में जगाया आपने
दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर
दिल में जगाया आपने

कब कहाँ सब खो गयी
जितनी भी थी परछाईयाँ
उठ गयी यारों की महफ़िल
हो गयी तन्हाईयाँ
कब कहाँ सब खो गयी


जितनी भी थी परछाईयाँ
उठ गयी यारों की महफ़िल
हो गयी तन्हाईयाँ
क्या किया शायद कोई
पर्दा गिराया आपने

दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर
दिल में जगाया आपने
दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर

दिल में जगाया आपने
और थोड़ी देर में बस
हम जुदा हो जायेंगे
और थोड़ी देर में बस


हम जुदा हो जायेंगे
आपको ढूँढूँगा कैसे
रास्ते खो जायेंगे
नाम तक भी तो नहीं
अपना बताया आपने

दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर
दिल में जगाया आपने
पहले तो मैं शायर था


आशिक बनाया आपने
दर्द-ए-दिल, दर्द-ए-जिगर
दिल में जगाया आपने
ला ला

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here