गुलछर्रे – Gulcharrey Lyrics in Hindi – बेवकुफिया2014

0
1099
gulcharrey
गाण्याचे शीर्षक:गुलछर्रे
चित्रपट:बेवकुफिया
गायक:बेनी दयाल, अदितीसिंग शर्मा
संगीत:रघु दीक्षित
गीत:अंविता दत्त

गुलछर्रे हे गीत बेवकुफिया या चित्रपट मधले असून या गीत चे गायक बेनी दयाल, अदितीसिंग शर्मा हे आहेत. ह्या गीत ला संगीत रघु दीक्षित यांनी दिली आहे. तसेच ह्या गीत चे शब्द अंविता दत्त यांनी लिहिले आहेत.

Hindi Lyrics

ए फ़िक्रों कि पूंछों पे है
पटाखों की लड़ी
फितरत पतंग जैसी
आवारा है बड़ी

हम में तो ही है बच्चू
औक़ात ऐंठ की
पंगों से पंगे ले लें
दिखाएं हेकड़ी

सारे छिछोरों को
हम ही सिखाते हैं
ऐशों कि कुंजी
लिखते पढ़ाते
नोटों कि बारिश है
सिक्के फुवारे हैं
भीगा है सारा जहां

जेबों में भरे गुलछर्रे
रईसी करे गुलछर्रे
शो-शा से भरे गुलछर्रे
ताड़ी से उड़े गुलछर्रे
उड़े गुलछर्रे…

ए सपनों के पोस्टर वाह भाई
दिन में भी दिखते हैं
सतरंगी पैकेटों में
मार्केट में बिकते हैं

अपना बस चले तो भारी सी सेल पे
चंदा तारे ना छोड़े
वो भी खरीद लें
बेतुकी बातों की
तुक हम बना लेंगे

हम तो जी भाई ग़म भी
खिल्ली उड़ा लेंगे
हम ना अकेले हैं
अपनी ये साज़िश में
शामिल हैं सारा जहां

जेबों में भरे गुलछर्रे
रईसी करे गुलछर्रे
शो-शा से भरे गुलछर्रे
ताड़ी से उड़े गुलछर्रे
उड़े गुलछर्रे…

कल की हम अभी
सोचे क्यूँ
जीने को ये पल काफी है
जो दिन है हमने देखा नहीं
उसपे हम क्यूँ भरोसा करें

सभी को छोड़ो
सब चुटकी में मिलता है
नूडल के जैसे सब मिनटों में पकता है
दम भर कि खुशियाँ हैं
पल भर में मिलती हैं
मांग के देखो ज़रा

जेबों में भरे गुलछर्रे
रईसी करे गुलछर्रे
शो-शा से भरे गुलछर्रे
ताड़ी से उड़े गुलछर्रे
उड़े गुलछर्रे…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here